Aug 12, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

** बदलते रिश्ते … **

?????????
अपने तो हैं अपनापन नहीं ,
भाई तो हैं भाईचारा नहीं ।
रहा कोई किसी का सगा नहीं ,
रिश्ते तो हैं पर वफ़ा नहीं ।।

स्वार्थ से भरी इस दुनिया में ,
अपनों को अपनों से प्यार नहीं ।
खून के रिश्ते भी हुए पराए ,
रहा खून पर अब ऐतबार नहीं ।।

बदलते रिश्ते बदलते ढंग ,
जाने कब कौन दिखाए कैसा रंग ।
मतलब के रह गए सब रिश्ते हैं ,
चलते नहीं अपने अब मुश्किल में संग ।।

हो बात ख़ुशी की तो गैर भी साथ हो लेते हैं ,
आए जो संकट तो अपने भी मुँह मोड़ लेते हैं ।
खुलता है भेद अपने-पराये का मुश्किल में ही ,
छोड़ दें संकट में वो रिश्ते सिर्फ नाम के होते हैं ।।
????????????????

3 Likes · 1307 Views
Copy link to share
Neelam Chaudhary
111 Posts · 81.2k Views
Follow 48 Followers
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी... View full profile
You may also like: