.
Skip to content

बदनसीबी कहाँ ले आई है

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

September 12, 2016

बदनसीबी कहाँ ले आई है
गम की बारात साथ लाई है

तार जब हों जुड़े हुए दिल के
दूर जाना न,बेवफाई है

कैसे कर पायेंगे विदा बेटी
सोच के फूटती रुलाई है

झूठ प्यारा लगा यहाँ इतना
बात सच की हुई पराई है

अर्चना खो रही है सपनों में
प्रीत सँग हो रही सगाई है

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ
फूलों सी खिलती हैं अब मुस्कान कहाँ चिड़ियों के भी पहले जैसे गान कहाँ आज एक ही बच्चे से परिवार बने रत्नों जैसे रिश्तों की... Read more
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ
बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बधाई हो बधाई, बेटी घर पर आई बेटा था घर का सूरज, रोशनी अब आई घर आँगन चौबारे... Read more
मुक्तक
मुझको तेरी याद कहाँ फिर से ले आई है? हरतरफ ख्यालों में फैली हुई तन्हाई है! भटके हुए हैं लम्हें गम के अफसानों में, साँसों... Read more
सच्चाइयाँ वो अब कहाँ
कविता जहाँ पर जन्म ले तन्हाइयाँ वो अब कहाँ कुछ शब्द हैं पर भाव की गहराइयाँ वो अब कहाँ फूलों भरी वो वादियाँ कलकल कहाँ... Read more