""बता दीजिए हुजूर""

इस तरह चोरी-चोरी आया न कीजिए।
दिल में लगा के आग जाया न कीजिए।।

हो गई मोहब्बत तो बता दीजिए हुजूर,
दिल में रख बात वक्त जाया न कीजिए।।

यादों में बंद आँखें रख पहरों से हैं पड़े,
सोए समझ हमें यूँ जगाया न कीजिए ।।

चुपके-चुपके आँखों से करते हो दीदार,
आँखों से मिला आँखें शरमाया न कीजिए।।

हम बंद पलकों में , दिल मन रूह में तेरे,
तस्वीर बना बना रेत यूँ मिटाया न कीजिए।।

दिल धड़क धड़क यौवन से मांगे जब करार,
तब थपकियाँ दे दिल को सुलाया न कीजिए।।

तकदीर में लिखा”जय” सातों जन्म का साथ,
यूँ लकीर मेरे हाथों से ..मिलाया न कीजिए।।

संतोष बरमैया ” जय”
कुरई, सिवनी, म.प्र.

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share