.
Skip to content

बता क्यूँ नहीं देते…..

शालिनी साहू

शालिनी साहू

गज़ल/गीतिका

July 10, 2017

एक बार ही जी भर के सजा क्यूँ नहीं देते
इन रूढ़ियों, परम्पराओं को मिटा क्यूँ नहीं देते!
.
जन्म से ही पाप समझी जाती हैं बेटियाँ
इन गलतफहमियों को सुलझा क्यूँ नहीं देते!
.
मार दी जाती है दुनियाँ में कदम रखने से पहले
ऐसे भेदभाव को मिटा क्यूँ नहीं देते!
.
होती हैं लाख बंदिशे दोनों घरों में
इन बंदिशों को कुछ कम कर क्यूँ नहीं देते!
.
धन, ऐश्वर्य रूप-सौन्दर्य सब चाहिए
ऐसे सौदागरों को भगा क्यूँ नहीं देते!
.
हर रोज शिकार होती हैं तेजाब के हमलों का
उन दरिन्दों को जला क्यूँ नहीं देते!
.
चलती राहों में सरेआम होती है इज्जत उनकी
तुम अपनी आँखों से चश्मा हटा क्यूँ नहीं देते!
.
माना परिधान हैं छोटे उनके
अपनी नजर में बहन बना क्यूँ नहीं देते!
.
आरोप लगते हैं अधकटे कपड़ों के
बचपन की यादों को हवा क्यूँ नहीं देते!
.
बहन को कैद चलती राहों को मॉल या आइटम
इस गन्दगी को जिश्मऔर जान से निकाल क्यूँ नहीं देते!
.
प्रयास थोड़ा सा ही करके
अपनी राखी का फर्ज अदा कर क्यूँ नहीं देते!
.
बार-बार अपमानित करते हो उन्हें
एक बार उनकी गलती बता क्यूँ नहीं देते!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Author
Recommended Posts
बेटी की पुकार
???? बेटा बेटी एक समान बता क्यूँ नहीं देते? जमाने के आँखों से ये पर्दा हटा क्यूँ नहीं देते? बेटों से कभी कम नहीं है... Read more
||टुटा दिल ||
“आज फिर से ये वक्त कुछ बेरहम सा लगता है क्यूँ बसंत का मौसम ये पतझड़ सा मुझको लगता है , क्यूँ महफ़िलों में छाया... Read more
नारी शक्ति जागो
क्यूँ हवस का सामान समझी जाती हैं नारियाँ! क्यूँ भोग्या की दृष्टि से देखी जाती हैं नारियाँ! क्यूँ दाग ये लगता है पुरुष समाज पर!... Read more
जताकर प्यार
जताते प्यार बूँदों - सा, तुम नदिया नहीं बनते । मुझे जीने नहीं देते, मुझे मरने नहीं देते ॥ नजरों में तू - ही -... Read more