* बतादे हाल*

2122 1212 112
तू न मिल बस बता दे हाल हमें।
फिर रहेगा नही मलाल हमें।।

रात भर करवटें बदलती हूं।
रोज तड़पाते हैं खयाल हमें।।

चैन तेरे बिना न पाए दिल
घेर लेते हैं गम के जाल हमें।।

आस में अब तो सांस टूटेगी।
मर न जाऊं न कर हलाल हमें।।

याद तुमको बहुत मैं आऊंगी।
दिल से कितना भी तू निकाल हमें।।

राह तकते ए आँख पथराई।
लेके बाँहों में कर निहाल हमें।

लो न बुझ जाए ज्योति की सोचो
साथ देकर बना मशाल हमें।।

Like 1 Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing