मुक्तक · Reading time: 1 minute

बडे़ दिनों बाद फिर उसे मेरी याद आई।

बडे़ दिनों बाद फिर उसे मेरी याद आई,
प्यार का पैगाम आया और भी सौगात आई।
न जाने किस डगर की किस गली में खो चुके थे,
जब मिले तो हम किसी और के हो चुके थे।।

रचना-मौलिक एवं स्वरचित
निकेश कुमार ठाकुर
सं०- 9534148597

5 Likes · 3 Comments · 206 Views
Like
You may also like:
Loading...