.
Skip to content

बच्चे थे तो अच्छे थे

Pooja Singh

Pooja Singh

कविता

February 13, 2017

“बच्चे थे तो अच्छे थे ,
जब दिल खोल के जी तो लेते थे
रो रो कर भी हस लेते थे ,
हर रिश्ते में खुश हो लेते थे .
हर आंसू के गिरने से पहले ,
कोई पोंछ उन्हें तो देता था
एक मुस्कराहट के पीछे ,
सब कुछ वार कोई तो देता था
वो भी क्या दिन थे जब
हिलते कदमो की आहट से ही
पहचान हमे कोई लेता था ,
सोचते हैं क्यों बड़े हुए ?
अपनी पहचान बनाकर भी ,
हम अपनों से हैं दूर हुए .
दुनिया को खुश करने की खातिर ,
अपनी ख़ुशी से दूर हुए .
इस रंग बदलती दुनिया में ,
शोहरत बी है और नाम भी है .
पर तेरी ख़ुशी में खुश हो ले
दुनिया में वो जज्बात नहीं .
इसीलिए बच्चे थे तो अच्छे थे ,
दुनिआ की सच्चाई से दूर तो थे “

Author
Pooja Singh
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more