*बचपन*

खुशियों का खजाना बचपन
हर ग़म से अंजाना बचपन
कोशिश कोई लाख करे पर
लौट कभी न आना बचपन
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

1 Comment · 4 Views
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान * Awards: विभिन्न मंचों द्वारा सम्मानित View full profile
You may also like: