बचपन वाला गाँव

बढ़े शहर की ओर जब, गति से मेरे पाँव ।
यादों में ही रह गया, बचपन वाला गाँव ।।

मजबूरी की बेड़ियाँ , रोक रही हैं पाँव ।
कैसे कह दूं लौटकर, आऊँगा मैं गाँव ।।
रमेश शर्मा

Like 2 Comment 0
Views 29

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share