बचपन जीने का नाम है बेटी

बचपन जीने का नाम है बेटी
कितनी रातें जागी थी मैं तुझे सुलाने में |
कितने सपने बुने थे मैंने लोरियां गानेमें |
वो तेरा मुहँ में अंगूठा लेना,
और आँचल को मेरे पकड़ कर खींचना |
सोई ममता जगाती है बेटी,
बचपन जीने का नाम है बेटी||
वो तेरा आँगन में कूदना फांदना |
दो चोटी बाँध कर स्कूल जाना |
अल्हड़पन से मेरे गले में भाहें डालना ,
और शिकायतों के पुलिंदे से मेरी झोली भरना |
सोये अरमां जगाती है बेटी |
बचपन जीने का नाम है बेटी ||
यौवन को देहलीज पर खडा देख,
अपनों से आँखे चुराना तेरा |
सखियों को हमराज बनाना तेरा |
और छोटी बहन को आँखे दिखाना तेरा |
मन के सागर को आंदोलित करती है बेटी |
बचपन जीने का नाम है बेटी ||
विदाई की बेला में रुलाती है बेटी |
मर्यादाओं में बंधी,
दो घरों को आबाद कर ,
माता पिता को गर्व से जीना सिखाती है बेटी |
तपती धरा पर मेह की पहली बूंद बेटी |
बचपन जीने का नाम है बेटी ||
बीते यौवन को निहारने का नाम है बेटी |
जीवन के संध्या काल का उजास है बेटी |
बेटी बिन जीवन अधूरा |
मन का हर कोना सूना सूना |
हर माँ के मन का दर्पण है बेटी |
बचपन जीने का नाम है बेटी |

This is a competition entry

Competition Name: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता- "बेटियाँ"

Voting is over for this competition.

Votes received: 2

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 165

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share