.
Skip to content

बचपन की यादें ।

sunil nagar

sunil nagar

गीत

November 14, 2017

स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री माननीय पं. श्री जवाहर लाल नेहरू ( बाल -दिवस) की हार्दिक शुभकामनाएं ।

बाल – गीत

बचपन मिल जाएं कही , उसे ढूंढ लाओं न,
वो गुड़िया कही खो गई, उसे ढूंढ लाओं न ।

वो चुन्नु, मुन्नु वो टकलू ,
वो रामू, श्यामू वो बबलू ।
वो हंसोड़, मजाकिया गबलू को ढूंढ लाओं न ।

बचपन मिल जाएं कही , उसे ढूंढ लाओं न,
वो गुड़िया कही खो गई , उसे ढूंढ लाओं न ।

वो बारिश में भीगना ,
पानी में छप – छप करना,
वो मां के हाथों से छूटकर,
गली – मोहल्लों में भगना ।
वो लड़ाई वो झगड़े कभी ढूंढ लाओं न ।

बचपन मिल जाएं कही , उसे ढूंढ लाओं न ,
वो गुड़िया कही खो गई , उसे ढूंढ लाओं न ।

कागज की नाव बना ,
पानी में तैराते थे ,
डूब जाती किसी की कश्ती,
उसे जम कें चिढ़ाते थे ।
वो तैरती हुई नौका, कोई ढूंढ लाओं न ।

बचपन मिल जाएं कही , उसे ढूंढ लाओं न ,
वो गुड़िया कही खो गई , उसे ढूंढ लाओं न ।

गुड़िया को सजाकर के ,
उसे मेंहदी लगाते थे ,
किसी सुन्दर गुड्डु के संग,
उसका ब्याह रचाते थे ,
नव – नवेली दुल्हन को कही ढूंढ लाओं न ,

बचपन मिल जाएं कही , उसे ढूंढ लाओं न ,
वो गुड़िया कही खो गई , उसे ढूंढ लाओं न ।

कभी विद्यालय नही जाना ,
एक टांफी में मान जाना ,
कभी कृष्णा कभी राधा ,
बनकर स्कूल जाना ।
वो दीदी जी का प्यार कैसे ढूंढ लाओं न ।

बचपन मिल जाएं कह, उसे ढूंढ लाओं न ,
वो गुड़िया कही खो गई , उसे ढूंढ लाओं न ।

रचनाकार -सुनील नागर

खुजनेर – राजगढ़ (म. प्र.)

Author
sunil nagar
सुनील नागर खुजनेर राजगढ़ ( म. प्र.) एम. ए . - हिन्दी कार्य - अध्यापक हिन्दी , संस्कृत
Recommended Posts
फिर कियुं जमाना वो ढूंढ रहा है
किनारे पर किनारा वो ढूंढ रहा है फिर से इक बहाना वो ढूंढ रहा है ************************* हर तरफ है जब आइना उसके फिर क्यूं जमाना... Read more
( कविता ) बचपन की यादें
वो बचपन की यादें, बड़ी ही सुहानी बहुत याद आते वो किस्से कहानी । वो गुल्ली, वो डंडा, वो कंचों का खेला मुहल्ले मे लगता... Read more
ढूंढ़ रहे...
बे वक्त के इन परिंदों को देख़ो....कही आशियाना ढूंढ़ रहे, बे वजह घूम रहे इन दरिन्द्रो को देखो...कही अपना घर ढूंढ़ रहे, आंखिर उड़ानों का... Read more
कविता: वो बचपन की यादें
आज फिर याद आई मुझे मेरे गाँव की। वो बचपन की यादों की वो पीपल की छांव की।। १.माँ की ममता के आँचल तले, कितने... Read more