.
Skip to content

बघेली मुक्तक और समसामयिक शायरी

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

मुक्तक

April 22, 2017

आंधर बनें बटइया,अपनेन क बांटत हं,
सुधबन के मुंहु, कुकुरबे चाटत हं।
एंह दउर मं केहू क का कही बताब,
अपनन के हाथ, अपनेन काटत हं।

छोड़ दो कोशिशें किसी को जगाने की,
अब कहां फिक्र है किसी को ज़माने की।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
मुक्तक
मुक्तक - कौन यह कहता है कि ख्वाब तो झूठे होते हैं । इनसे ही तो पथ, जीवन के अनूठे होते हैं । साकार हो... Read more
मुक्तक
शीर्षक मुक्तक - किरण- ज्योति, प्रभा, रश्मि, दीप्ति, मरीचि। “मुक्तक” भारती धरा अलौकिक है न्यारी है लालिमा भोर भाए किरण दुलारी है ब्रम्ह्पूत्र सिंधु नर्मदा... Read more
मुक्तक (जान)
मुक्तक (जान) ये जान जान कर जान गया ,ये जान तो मेरी जान नहीं जिस जान के खातिर जान है ये, इसमें उस जैसी शान... Read more
मुक्तक (जान)
मुक्तक (जान) ये जान जान कर जान गया ,ये जान तो मेरी जान नहीं जिस जान के खातिर जान है ये, इसमें उस जैसी शान... Read more