Skip to content

बघेली मुक्तक और समसामयिक शायरी

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

मुक्तक

April 22, 2017

आंधर बनें बटइया,अपनेन क बांटत हं,
सुधबन के मुंहु, कुकुरबे चाटत हं।
एंह दउर मं केहू क का कही बताब,
अपनन के हाथ, अपनेन काटत हं।

छोड़ दो कोशिशें किसी को जगाने की,
अब कहां फिक्र है किसी को ज़माने की।

Share this:
Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended for you