बघेली कविता

किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !
अपने खुद जीवन के साथे आँख मिचउली खेलन !!

पढ़न नहीं हम कबहू मन से आपन हाल बताई !
कक्का किक्की साथे मा ही कविता अहिमक गाई !!

दिआ जलाये लेहे पोथन्ना देहरउटा मा बइठी !
राजू लाला अउर विपिन के कान पकड़ी के अइठी !!

ग़लत होय जब जोड़ घटाना दइके एड़ुआ पेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !

गुट्का पाउच खूब खबाइन दोस्त परोसी हितुआ !
उहौ फलाने खर्च करय खुब जे थूक मा सानय सेतुआ !!

भिरुहाये बागय उ हमका दुपहर साँझ सकारे !
खेते मेड़े काम कराबय गरिआबय दउमारे !!

सुनत रहन हम बहुत दिना से एकदिन मुड़भर बेलन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

घरके पहिलउठी बेटबा हम रोउना खूब रोबाई !
महतारी के बात ना मानी दिनभर करी लड़ाई !!

सोबत परे हाथ गोड़ बाधिस मरतय मारिस डंडा !
सगलौ भूत बगारे भगिगे बनिगय अम्मा पंडा !!

दुसरे दिन हम गाड़ी बईठन भेजय लागन बेतन !
किहन रात दिन मेहनत भइलो बहुत गरीबी झेलन !!

मौलिक Kavi Ashish Tiwari Jugnoo
09200573071 / 08871887126

Like Comment 0
Views 4k

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share