.
Skip to content

” बंशी तेरी , अधर धरूंगी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

January 26, 2017

सपन सलोने ,
पलक द्वार पर !
बैठे ही हैं ,
अंगना बुहार कर !
खुशियों में सब –
पल डूबे हों !
चाहत तेरी ,
नज़र करूंगी !!

सुने अनसुने ,
प्रश्न जब उभरे !
वादे टूटे ,
स्वर भी बिखरे !
हानि लाभ का ,
गणित न जानूँ !
साझे में ही –
बसर करूंगी !!

मनुहारों से ,
मैल धुल गया !
ईज़हारों से ,
हृदय खिल गया !
परछाई बन ,
जीना मुझको !
तनहा ना मैं –
सफर करूंगी !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
सदा सच की तरफदारी करूँगी
सदा सच की तरफदारी करूंगी, कुछ हो जाये उम्र सारी करूंगी। परवाह नहीं मुझे इस ज़माने की, दुश्मनों का जीना भारी करूंगी।। कलम शमशीर से... Read more
तेरी जय हो
तेरी जय हो हे अन्नदात्री, हे सुखदात्री हे जन्मभूमि, हे कर्मभूमि तेरी जय हो, तेरी जय हो। भाग्य को बनाने वाली हृदय दीप जलाने वाली... Read more
मुक्तक
तेरी तस्वीर को सीने से लगा रखा है! तेरी चाहतों को पलकों में सजा रखा है! रोकना मुमकिन नहीं है तेरी आरजू को, तेरी तमन्ना... Read more
मुक्तक
तेरी तस्वीर को सीने से लगा रखा है! तेरी चाहतों को पलकों में सजा रखा है! रोकना मुमकिन नहीं है तेरी आरजू को, तेरी तमन्ना... Read more