" बंशी तेरी , अधर धरूंगी " !!

सपन सलोने ,
पलक द्वार पर !
बैठे ही हैं ,
अंगना बुहार कर !
खुशियों में सब –
पल डूबे हों !
चाहत तेरी ,
नज़र करूंगी !!

सुने अनसुने ,
प्रश्न जब उभरे !
वादे टूटे ,
स्वर भी बिखरे !
हानि लाभ का ,
गणित न जानूँ !
साझे में ही –
बसर करूंगी !!

मनुहारों से ,
मैल धुल गया !
ईज़हारों से ,
हृदय खिल गया !
परछाई बन ,
जीना मुझको !
तनहा ना मैं –
सफर करूंगी !!

बृज व्यास

Like Comment 0
Views 422

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing