Skip to content

बंधन

Shubha Mehta

Shubha Mehta

कविता

August 18, 2016

रक्षा का बंधन
बंधन अनोखा
शहद में भीगा
मीठा-मीठा
रसीले आम सा
जिसमें भरा है
जीवन रस
कितने सुहाने थे
बचपन के वो पल
गुजा़रे थे जो हमने
साथ साथ
छीना-झपटी, मारा-मारी
खेले-कूदे साथ-साथ
भाई सदा ही आगे चलता
और बहन की रक्षा करता
जब आए उस पर कोई विपदा
हाथ सदा माथे पर रखता
भाई-बहन का स्नेह निराला
कितना सच्चा ,कितना प्यारा ।

Share this:
Author
Shubha Mehta
Recommended for you