.
Skip to content

बंधन

Shubha Mehta

Shubha Mehta

कविता

August 18, 2016

रक्षा का बंधन
बंधन अनोखा
शहद में भीगा
मीठा-मीठा
रसीले आम सा
जिसमें भरा है
जीवन रस
कितने सुहाने थे
बचपन के वो पल
गुजा़रे थे जो हमने
साथ साथ
छीना-झपटी, मारा-मारी
खेले-कूदे साथ-साथ
भाई सदा ही आगे चलता
और बहन की रक्षा करता
जब आए उस पर कोई विपदा
हाथ सदा माथे पर रखता
भाई-बहन का स्नेह निराला
कितना सच्चा ,कितना प्यारा ।

Author
Shubha Mehta
Recommended Posts
*रक्षाबंधन*
*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श्रावण... Read more
*रक्षाबंधन*
*रक्षाबंधन* बहिन का वंदन भाई का चंदन कलाई में रक्षा का वरदान है। भाई बहन के प्रेम का बंधन रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है। श्रावण... Read more
कभी इस पार ,कभी....
कभी इस पार कभी उस पार, खिच लेता है एक दूजे को बहन-भाई का प्यार रक्षा बंधन का त्यौहार चलता रहे,निभता रहे अमर प्रेम की... Read more
ये बंधन अनमोल
रिश्तों के इतिहास मे, शोभित है भूगोल ! भ्राता भगिनी नेह के,,ये बंधन अनमोल !! रिश्ता मीठा इस तरह,ज्यों मिश्री का घोल! बहन भ्रात के... Read more