"फुहार"

मेघों का यूँ प्यार लुटाना, अच्छा लगता है,
प्रकृति दिखे आतुर स्वागत को,अच्छा लगता है।

चपल, कौँध जाती बिजली, जो रह-रह कर,
टीस उभरती मन में, फिर भी, अच्छा लगता है।

धन्य हुई है धरा भीगकर,रिमझिम,मस्त फुहारों से,
हरा-भरा चहुँदिश,दिखना भी, अच्छा लगता है।

नव कोपल, दिग-दृग अनन्त, अमराई मेँ,
कोयल का यूँ, कूक सुनाना अच्छा लगता है।

मन्द-मन्द मदमस्त पवन , सुरभित पराग,
भ्रमर-वृन्द का गुन्जन करना, अच्छा लगता है।

पुष्पों के कानोँ में, मोहक तितली का,
हौले से कुछ, कह जाना भी,अच्छा लगता है।

मँत्र-मुग्ध करने आया, अद्भुत है नृत्य मयूरों का,
पपिहा का “पियू कहाँ” सुनाना,अच्छा लगता है।

इन्द्रधनुष ने छटा बिखेरी, अम्बर मेँ,
राग-मल्हार, श्रवण करना भी,अच्छा लगता है।

भले दिखे बोझिल, यौवन से, तरुणाई,
उर-पीड़ा का, भार उठाना,अच्छा लगता है।

भले वेदना, मन मेँ उनकी यादों की,
कभी-कभी पर,पीर छुपाना,अच्छा लगता है।

बिन आहट के, स्वप्नों मेँ आकर उनका,
प्रणय-गीत का, सार सुनाना, अच्छा लगता है।

बाट जोहते नयन, मिलन की “आशा” मेँ,
कभी-कभी पर,अश्रु बहाना,अच्छा लगता है..!

Written by-

Dr. Asha kumar rastogi
M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

7 Likes · 3 Comments · 200 Views
M.D.(Medicine),DTCD Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad. Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near...
You may also like: