.
Skip to content

फुर्सत

रवि रंजन गोस्वामी

रवि रंजन गोस्वामी

शेर

August 9, 2017

जब महफिल उठ गयी
तो घर याद आया है ।

किस कामयाबी पर नाज़ करें ,
ऐसा कुछ किया क्या है ?

कुछ करते हैं तो कमाल करते हैं ,
नहीं करते तो और कमाल करते हैं।

ऐसे कैसे हरदम मशरूफ़ हैं ?
थोड़ी फुर्सत हम से उधार ले लें ।

Author
Recommended Posts
फ़ुरसत मिले....
फ़ुरसत मिले कोई नज़्म ही कह दूँ फ़ुरसत मिले इक ग़ज़ल ही लिख दूँ कितना हूँ अब व्यस्त ... स्मार्ट फ़ोन में मस्त ... अा... Read more
“जै कन्हैयालाल की! [ लम्बी तेवरी तेवर-शतक ]  +रमेशराज
कृष्ण-रूप में कंस जैसे हर शासक के प्रति- “जै कन्हैयालाल की! [ लम्बी तेवरी तेवर-शतक ] +रमेशराज ..................................................... जन को न रोटी-दाल, जै कन्हैयालाल की!... Read more
जिंदा रहते हैं कमाल करते हैं
छोड़िये ये बेकरारी, बेसबब , लोग चिल्लाते हैं बेमतलब, जिंदा रहते हैं कुछ लोग मर कर भी , जायेँ श्मशान में या रहें कब्रों में... Read more
*** इतनी फुर्सत कहां ***
इतनी फुर्सत कहां मिलती है हमको जो तेरा सूरत-ए-हाल लिखें हम माल हमारा है बिके चाहे ना बिके जमाने का हाल क्या लिखें जमाने ने... Read more