फिर सात दोहे ।

बुधवार स्वतन्त्र दोहे —

—————-फिर सात दोहे—————

फूक फूक चलना सदा,, भूल एक पर्याप्त ।।
राम मॄत्यु का कटघरा, चौतरफा है व्याप्त ।।

विनय नम्रता सादगी ,सत्य सरस व्यवहार ।
सदाचार सदभाव का,,,, ऋणी रहा संसार ।।

मन की खायीं विषभरी, झांझर झरती बूंद ।
निज तन भींगे दुख सहे, तड़पे आँखे मूँद ।।

धन्य वही नर नागरिक, ज्ञानी या मतिमन्द ।
देख पड़ोसी की ख़ुशी , मिले जिसे आनंद ।।

सुख के दो दिन बाद में, दुख का है परिवेश ।
पुनः सुखों की चाह में ,,,,,,देह रह गयी शेष ।।

एक अवस्था वृद्ध की,,,माया बढ़ती जात ।
मायारूपी मृत्यु के , सम्मुख है भय खात ।।

घाव मिले यदि शत्रु से , छोड़ सभी अपवाद ।
बदला है तो लीजिये,,,,चाहे दो दिन के बाद ।।

©©राम केश मिश्र

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 262

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share