फिर सात दोहे ।

बुधवार स्वतन्त्र दोहे —

—————-फिर सात दोहे—————

फूक फूक चलना सदा,, भूल एक पर्याप्त ।।
राम मॄत्यु का कटघरा, चौतरफा है व्याप्त ।।

विनय नम्रता सादगी ,सत्य सरस व्यवहार ।
सदाचार सदभाव का,,,, ऋणी रहा संसार ।।

मन की खायीं विषभरी, झांझर झरती बूंद ।
निज तन भींगे दुख सहे, तड़पे आँखे मूँद ।।

धन्य वही नर नागरिक, ज्ञानी या मतिमन्द ।
देख पड़ोसी की ख़ुशी , मिले जिसे आनंद ।।

सुख के दो दिन बाद में, दुख का है परिवेश ।
पुनः सुखों की चाह में ,,,,,,देह रह गयी शेष ।।

एक अवस्था वृद्ध की,,,माया बढ़ती जात ।
मायारूपी मृत्यु के , सम्मुख है भय खात ।।

घाव मिले यदि शत्रु से , छोड़ सभी अपवाद ।
बदला है तो लीजिये,,,,चाहे दो दिन के बाद ।।

©©राम केश मिश्र

312 Views
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ...
You may also like: