Jul 20, 2018 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

तन भी सूखा मन भी सूखा,

तन भी सूखा मन भी सूखा,
फिर नेह कलश छलकाओ प्रिय ।
दहक रही हूँ विरह ताप में,
अब और नहीं दहकाओ प्रिय ।
बीत गये हैं कई बरस अब,
किये हुए आलिंगन तुमको-
झड़ी लगा कर सिंचित कर दो,
दामन मेरा महकाओ प्रिय।
-लक्ष्मी सिंह

18 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
826 Posts · 262.1k Views
Follow 46 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: