फिर दिये सा जगमगाना ज़िंदगी

फिर दिये सा जगमगाना ज़िंदगी
ख्वाहिशों का ताना-बाना ज़िंदगी

बस यही तौफ़ीक़ उसकी है मुझे
रूठ जाऊं तो मनाना ज़िंदगी

तुझसे बिछड़ा दर-ब-दर हो जाऊँगा
तू मिरा है आशियाना ज़िंदगी

आ मिरे घर नाश्ता कर ले कभी
मुझको अपने घर बुलाना ज़िंदगी

हाथ तेरा थाम कर चलता रहूँ
हर क़दम रस्ता दिखाना ज़िंदगी

सच को सच न लिक्खे जब मेरी क़लम
हक़ तुझे है रूठ जाना ज़िंदगी

नज़ीर नज़र

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share