.
Skip to content

फिर आऊँगा ….

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

कविता

August 20, 2017

मैं नाम बदल फिर आऊँगा !
किसी दरख्त का फूल बनकर
अंबर का तारा बनकर- – –
तितलियों सा रंग-बिरंगा—
जंगल में मंगल करने
हिरन जैसा चंगा-बंगा!
झर-झर करता झरने सा बहता
मैं फिर आऊँगा—
मैं आज जँहा हूँ
कल वहाँ फिर आऊँगा!
मैं नाम बदल फिर आऊँगा।

Author
मुकेश कुमार बड़गैयाँ
I am mukesh kumarBadgaiyan ;a teacher of language . I consider myself a student & would remain a student throughout my life.
Recommended Posts
मै रहूँ न रहूँ,,,
मै रहूँ न रहूँ तुम मुस्कराते रहना मै निहारूँगा तारा बनकर तुम बस खिलते रहना। मेरे लिए न होना कभी उदास तुम झरने सी बहते... Read more
आत्मा से विश्व है, यह विश्व भी मैं :: जितेंद्रकमलआनंद ( पोसंट९९)
घनाक्षरी -------------- आत्मा से विश्व है , यह विश्व भी मैं ही हूँ और -- विश्व निराकार यदि मैं भी निराकार हूँ । विश्व यदि... Read more
तन्हाई
तन्हा बैठी थी तन्हाई मैं, याद उनकी आई तन्हाई मैं. तुम कहाँ और क्यों गये साहिब, वर्षो हुए नहीं सोई तन्हाई मैं. इस बेरुखी का... Read more
मुक्तक
तेरे बिना तन्हा मैं रहने लगा हूँ! दर्द के तूफानों को सहने लगा हूँ! बदल गयी है इसकदर मेरी जिन्दगी, अश्क बनकर पलकों से बहने... Read more