फिजा

लेकर आई है फिजा, मेरे प्रिय को आज।
मैं दिल की कैसे कहूँ, अाये मुझको लाज।। १

दीपक उर में प्रेम की, फिजा हुई सतरंग।
बगिया मेरी रूह की, गई इश्क से रंग।। २

खिली-खिली-सी ये फिजा, मौसम मेहरबान।
पलट-पलट में देखती, पर वो हैं अनजान।। ३

महकी-महकी है फिजा, बहकी-बहकी रात।
अाज वादियों में घुला, खुशियों की सौगात।। ४

जैसे खुश्बू फूल में, घुला फिजा में प्यार।
दिल की धड़कन में बसे, वैसे ही दिलदार।। ५

महकी है सारी फिजा, बहकी मेरी चाल।
प्रियतम से नजरें मिली, हुई शर्म से लाल।। ६

आज फिजा में हो रही, मधुर-मधुर झंकार।
चमन-चमन खिलने लगी, अाशा, तृष्णा, प्यार।। ७

सुखद सुहानी-सी फिजा, कर सोलह श्रृंगार।
आज वादियों में घुला, तेरा मेरा प्यार।। ८

ख्वाब चुरा लेगे सभी, फिजाओं से बहार।
तेरे खातिर साजना, मेरी जान निसार।। ९

निखर गया सारी फिजा, खिला चमन गुलकंद।।
मन मतवाला -सा हुआ, उड़ने लगा स्वछंद।। १ ०

अाज फिजाओं में भरा, इन्द्रधनुष का रंग।
मन पंछी बन उड़ चला, प्रियतम तेरे संग।। १ १

भींगा-भींगा वादियाँ, गीला-गीला अंग।
कुदरत भी जाये बहक, देख फिजा का रंग।। १२

याद दिलाती है फिजा, बीते दिन की बात।
प्रेम पुष्प अनुराग से, भरा सभी जज्बात।। १ ३

प्रेम सुधा घुलने लगी, हुई फिजा मदहोश।
मन कस्तूरी ढ़ूँढ़ती, बिन प्रियतम खामोश।। १४

जर्रा-जर्रा खुशनुमा, फिजा में जल तरंग।
मौसम की प्यारी अदा, मन में भरे उमंग।। १ ५

पुष्प फिजा में खिल उठे, भंवरे उड़े अनंत।
ए दिल संभल जा जरा, आने लगा बसंत।। १६
लक्ष्मी सिंह

Like Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing