23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

फिजाएँ ठहर -सी गयीं

पापा जेब में पैसा
क्यों नहीं रखते?
आइसक्रीम चाटते हुए
बतियाते हुए
चहकते हुए
कुछ नवांकुरों को
देखकर
किनारे से चुपचाप
निकलते हुए पिता की
अँगुली पकड़कर
चल रहे
एक दूसरे नवांकुर ने
मासूम सा सवाल किया
जिसे सुनकर पिता तो
चलता रहा
किंतु फिजाएँ
ठहर -सी गयीं

मोती प्रसाद साहू

1 Like · 2 Comments · 8 Views
MOTI PRASAD SAHU
MOTI PRASAD SAHU
अल्मोड़ा
15 Posts · 411 Views
जन्म 1963(वाराणसी) Books: पहचान क्या है( कविता संग्रह) 2013
You may also like: