.
Skip to content

फाग माह का हैं उपहार

Rita Singh

Rita Singh

कविता

March 16, 2017

नव पल्लव सज्जित तरुवर
फाग माह का हैं उपहार ,
कोमल कोपल महक डाल पर
करती सुरभित पवन बयार ।

मानो वृक्ष वर बन सँवरकर
सेहरे की लड़ियाँ रहे सँवार
नव वधू सी सजी धरा है
हो पुष्प मालाओं से तैयार ।

कुछ धानी कुछ पीत वर्ण की
पहने बाली सब कनक – क्यार
आम्र डाल पर मंजरी झूमे
कोकिल गाए बसंत बहार ।

कण कण में बिखरा सौंदर्य
करता हृदय में सुख संचार
नव संवत्सर के अभिनंदन में
किया प्रकृति ने सोलह शृंगार ।

डॉ रीता
एफ – 11 फेज़ – 6
आया नगर,नई दिल्ली – 47

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
नव वर्ष मुबारक
ऊषा की पहली किरण मुस्कराई आज फिर एक नया सबेरा लाई कुछ नई सौगाते और सपने साथ लाई कण कण मे उजाला भरती हुई आई... Read more
सजी धरा है सजा गगन है
सजी धरा है सजा गगन है सज गया सृष्टि का कण कण है रँग बिरंगे पुष्पों की स्मित से मुस्काने लगा जन गण मन है... Read more
*सुप्रभात*
*सुप्रभात ** ******** ?वन्दन परमात्मा ,? एक और नयी सुबह नयी-नयी अभिलाषाएं नव निर्माण को एक और क़दम नयी पीढ़ी की नयी सोच संग ,... Read more
नव संवत्सर
?नव संवत्सर? श्रृंगार सलोना धरा धरा ने क्या विस्मय है| ऋतु नव अभिनव शस्य पात नव नव किसलय है| चंचलता में लिपटा यह मन करे... Read more