.
Skip to content

फाग गीत

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गीत

March 17, 2017

आओ मिलकर गाएं फाग ।
छेड़ें समरसता का राग । ।

हुए बहुत दिन लड़ते-लड़ते ,
बात-बात पर खूब झगड़ते ।
लेकिन बात बनी न अब तक,
फिर क्यों ? हम झगड़े में पड़ते ।
अगर प्यार से मिल बैठें तो ,
खिल जाएगा जीवन – बाग ।।

बदला लेकर नहीं निकलता ,
किसी समस्या का कोई हल ।
कलुषित हो जाता है जीवन ,
पीड़ित हो जाता है पल-पल ।
रोटी में भी स्वाद न रहता ,
खट्टी लगती मीठी साग ।।

छद्म प्रशंसा , अहंकार में ,
हुआ नर्क ये पूरा जीवन ।
मन सबके उखड़े-उखड़े हैं ,
मिलते रहते हैं केवल तन ।
दफ़्न हुआ संगीत आजकल ,
शोर छेड़ता गंदे राग ।।

आओ मिलकर गाएं फाग ,
छेड़ें समरसता का राग ।।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
**** जिंदगी ***
[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का... Read more
धोखा
दुनियां में धोख़ा बहुत आम बात है..! यह सभी के जीवन में सामान्य बात है| अब सूरज को ही देख लो.. आता है #किरण के... Read more
आओ बैठो क्षण दो क्षण , सुनो सुनाओ पल दो पल, जीते क्यों हो रीतेपन में , रहते क्यों हो खाली मन से, कुछ मेरी... Read more
⭐जाता हूँ?
⭐जाता हूँ? जमाने का सारा रंजो गम कही भूल जाता हूँ।। जब तेरी बाँहों में खुद एक पल झूल जाता हूँ।। कोई शिकवा कोई शिकायत... Read more