.
Skip to content

फ़ोकट का तमाशा

आशीष त्रिवेदी

आशीष त्रिवेदी

लघु कथा

February 13, 2017

आज फिर कामिनी बाहर गली में आकर चिल्ला रही थी ‘कोई भी नही बचेगा, सब को सजा मिलेगी. कानून किसी को नही छोड़ेगा.’ सभी अपने अपने घरों से झांक रहे थे. उसका भाई इंदर उसे समझा बुझा कर भीतर ले जाने का प्रयास कर रहा था.
अपनी बहन की इस दशा से वह बहुत दुखी था. बड़ी मुश्किल से समझा बुझा कर वह उसे भीतर ले गया. कुछ देर तक अपने अपने घरों से बाहर झांकने के बाद सब भीतर चले गए.
कभी कामिनी भी एक सामान्य लड़की थी. एक कंपनी में नौकरी करती थी. कुछ ही समय में विवाह होने वाला था. अपने आने वाले भविष्य को लेकर वह बहुत खुश थी. उसका होने वाला पति एक अच्छी नौकरी में था. परिवार भी बहुत अच्छा था. अतः वह आने वाले दिनों के सुखद स्वप्न देखने लगी थी.
किंतु उसके सारे सपने बिखर गए. एक दिन जब वह दफ्तर से घर लौट रही थी तब कुछ रईसजादों ने उसे जबरन अपनी कार में बिठा लिया. रात भर उसे नोचने खसोटने के बाद सड़क पर फेंक दिया. लड़के वालों ने विवाह से इंकार कर दिया.
इतने पर भी उसने हिम्मत नही हारी. अपने भाई इंदर के साथ मिलकर कानूनी लड़ाई के ज़रिए इंसाफ पाने का प्रयास किया. पुलिस स्टेशन के चक्कर मेडिकल जांच उसके बाद कोर्ट में प्रतिपक्षी वकील के भद्दे सवाल कुछ भी उसके हौंसले को तोड़ नही सका. लेकिन वह लड़के रसूखदार खानदानों के थे. पैसे की ताकत ने साबित कर दिया कि घटना के समय कोई शहर में नही था. सब बाइज़्ज़त बरी हो गए.
कामिनी यह आघात सह नही पाई. वह अपना मानसिक संतुलन खो बैठी. अब अक्सर वह इस तरह चीखने चिल्लाने लगती थी.
मोहल्ले वालों के लिए यह आए दिन का तमाशा था. किंतु कामिनी के लिए यह उसके मन की व्यथा थी.

Author
आशीष त्रिवेदी
मैं काहानी, लघुकथा एवं लेख लिखता हूँ.
Recommended Posts
मै शीशा हूँ की पत्थर हूँ
मुझे तुमसे मुहब्बत है कभी झुठला नही सकता/ कोई भी छीन कर मुझसे तुम्हे ले जा नही सकता// तू मेरी जिंदगी है इस कदर की... Read more
वो हो सकते इंसान नही...
विद्ध्यालय तो बहुत है लेकिन, बचा किसी मे ग्यान नही.. पड़े लिखे सब हो गये है, पर कोई बुद्धीमान नही... शिष्टाचार से रहना सीखो, करो... Read more
प्रेम
मुझे कोई शिकायत नही उसने मुझे अपनी जिंदगी का हिस्सा नही समझा। पर खुशी इस बात कि है उसने मुझे कुछ तो समझा । प्रियमवदा... Read more
वो गरीब थे!
वो रात भर ठण्ड से ठिठुरते रहे छोटे बच्चे थे गरीब थे नही थे पैसे कुछ गर्म कपड़े ले ले किसी ने उनकी सुध ना... Read more