Skip to content

*** फर्क दिलों-जिस्म में हो ना ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

November 5, 2017

फ़िजा में आज घुली है
जमाने-भर की आबे-बू
कुछ क्षण गुस्ल कर लूं
प्यार की बारिश में यूं
खुदा की खुदाई आये
मेरे आँचल में चुपके से
मुझे ना ग़म हो किस्मत
मेरे आँचल से रुखसत
बस इक दर्द छाया है
मेरे नाजुक जीवन पर
काश नफ़रत को मिटा पाता
अपने मिटने से पहले मै
क्या करूं अब वो पहले सी
बारिश भी तो नहीं होती
जमी हो गर्द दिलों पर यूं
जो अपने आप साफ होती
न किसी को माफ़ करने की
कभी नौबत ना आती थी
वो अल्लाह की दौलत थी
वो ईश्वर का खज़ाना था
कभी ना खत्म होती थी
वो महोब्बत का खज़ाना था
मगर कहते नही बनता
वो महोब्बत का फ़साना था
कर हासिल उस मंजिल को
अब भी तराना प्यार बाकी है
जिस्म तो रोज धुलते है
दिलों का धुलना बाकी है
गुस्ल कर इस क़दर अपने को
फर्क दिलों-जिस्म में हो ना बाकी ।।
. मधुप बैरागी

Share this:
Author
भूरचन्द जयपाल
From: मुक्ता प्रसाद नगर , बीकानेर ( राजस्थान )
मैं भूरचन्द जयपाल 13.7.2017 स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना... Read more
Recommended for you