23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

फतह होगी यकीनन

आफतें यूँ ही न आईं कुछ वजह होगी यकीनन|
रात का पैगाम है ये कल सुबह होगी यकीनन|
++
मन्जिलें कुछ दूर हैं ये रास्ते मुश्किल भी लेकिन,
हौंसले परवाज पर हैं तो फतह होगी यकीनन|
++
हद हुई खामोशियों की,क्यों न फिर तुफान आये,
हाशिये पन्नों पे लौटे अब जिरह होगी यकीनन|
++
आग पानी की तरह है आजकल अपनी अदावत,
दूरियां दिखतीं रहेंगी पर सुलह होगी यकीनन|
++
खुद फना हो करके मौजें साहिलों को चूम लेतीं,
जीत अपनी भी’मनुज’अब इस तरह होगी यकीनन|

4 Likes · 2 Views
मनोज राठौर मनुज
मनोज राठौर मनुज
आगरा
11 Posts · 305 Views
प्रकाशित कृतियां-- गजल शतक (100 गजलों का संग्रह), सिलवटें (गजल गीत संग्रह), कई साझा संकलन,...
You may also like: