.
Skip to content

मारे ऊँची धाँक,कहे मैं पंडित ऊँँचा

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

कुण्डलिया

March 20, 2017

ऊँचा मुँह कर बोलते, गुटखा खा श्रीमान|
गाल छिले, फिर भी फँसे, बहुत बुरा अभिमान ||
बहुत बुरा अभिमान ज्ञान की त्यागी बातें|
निज मन के बस हुए,खा रहे दुख की लातें||
कह “नायक” कविराय विश्व के कर में कूँचा|
मारे ऊँची धाँक, कहे मै पंडित ऊँँचा||

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

गुटखा= कटी सुपारी,कत्था,तम्बाकू एवं चूना का मिश्रण जो पैक किया हुआ बाजार में मिलता है|,
(एक नशीला मिश्रण)

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
नहीं चैन में कोई, छोड़ दो कक्का बीड़ी /सूरज नाम परंतु, पी रहे बुद्धू-बीड़ी
बीड़ी औ सिगरेट पी, पत्नी को दें ज्ञान| कहें नहीं दिखला मुझे, मद की ऊँची तान|| मद की उँची की तान,दिखाती खाकर मेरा| नाती से... Read more
नफरत
नफरत के गुण :- नफरत की दुनिया मे जीना आसान नहीं हर जगह हर तरफ चारो दिशाएॅ कहे कोई कहे तुम अच्छी नही हो कोई... Read more
*हर बार भूखे ही कुचले जाते है*
हर बार भूखे ही कुचले जाते है, भूख का अर्श ..... बना हुआ समाज में फर्श, सबको असुविधा से बचाते है, हर वक्त भूखे ही... Read more
ग़मों की दुनियाा तलाश लोगे बुरा करोगे
ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगे सभी से ख़ुद को जुदा करोगे बुरा करोगे बुरा करोगे जो चुप रहोगे ..दुखों पे अपने किसी से... Read more