.
Skip to content

**** प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश ****

Raju Gajbhiye

Raju Gajbhiye

कहानी

January 4, 2017

सर ! आपका संस्थान का प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश यह विज्ञापन पढ़ा है | आप प्रबंधन , फोटोग्राफी , मल्टीमीडिया ,
साफ्टवेअर , हार्डवेअर , पत्रकारिता , फैशन , कॉल सेंटर आदि विभिन्न प्रकार के कोर्स में दाखिला देते है | जया ने सवाल किया |

स्वागतकक्ष से एक सुन्दर वाकपटुता ने संस्थान का परिचय देते हुए कहा हमारा संस्थान प्रोफेशनल कोर्स में अग्रणी है |
नए – नए कोर्स है , रोजगार की १०० प्रतिशत ग्यारंटी है जी | आपको इंटरशिप , ट्रेनिंग , शिविर , शैक्षणिक यात्राएं
एव सुसज्जित लेब , लायब्रेरी सभी उपलब्ध है | बस आप प्रवेश लीजिये जी |

जया मन में सोच रही थी की संस्थान का भव्य ऑफिस , कोर्स की रंगबिरंगी जानकारि पूस्तिका कलर पेपर में ऑफिस के
हर टेबल पर एलसीडी , कंप्यूटर लगे हुए है | इन्टरनेट ब्राड बैंड कनेक्शन से सज्ज |

जया ने संस्था में दाखिला लिया | दाखिला के साथ ही फॉर्म एव जानकारी पुस्तिका के रुपये १००० की रशीद हाथ में दी गयी |
जया को लगा इतनी बड़ी संस्था है , फॉर्म के रुपये देना ही है |

संस्थान के जानकारी पुस्तिका में सभी कोर्स की फीस भी सर्वसाधारण आम आदमी की हैसियत से ज्यादा थी |
जया भी मध्यम परिवार से थी | लेकिन कोर्स करते ही १०० प्रतिशत रोजगार ग्यारंटी यह कारण से आकर्षित
थी | एक बार रोजगार मिल जाये तो मैं भी अपने पैरो पर खड़ी हो सकती हु , लड़की हु तो क्या हुआ ?

माता-पिता की परस्शिति नहीं होने के बावजूद जया ने संस्थान में प्रवेश लिया | फिर सिलसिला शुरू हुआ
इंटरशिप के पैसे भरो , ट्रेनिंग के पैसे भरो , शैक्षणिक यात्राएं के पैसे भरो और हर महीने कोर्स फ़ीस जमा करना अनिवार्य |
जया को रुपये देते – देते दिन में तारे नजर आने लगे |

संस्थान की अव्यवस्थाएं देखकर तो किसको क्या बताना यही समझ के बहार था | क्योंकी जो जानकारी
पुस्तिका में था उसके विपरीत सबकुछ था | ना बैठने की व्यवस्थाएं थी , ना पीने की पानी की व्यवस्था इसी से
अंदाजा लगाया जा सकता है की लेब व् लायब्रेरी हो सकती है ? ना सबंधित विषयो के शिक्षकगण |

जया को परीक्षा में बैठने का प्रवेश पत्र आया | दूसरे ही दिन संस्थान को रोख लगा दी गयी की संस्थान
को मान्यता नहीं है | सभी परीक्षार्थी को परीक्षा में बैठने नहीं दिया जाता है | जिसमे जया का भी नाम था |
सुनते ही जया को चक्कर आने लगे | माता-पिता ने मार्केट से रुपये उधार लिए है उसका क्या होगा | दूसरे
छात्र -छात्राये परेशांन नजर आ रहे थे | लेकिन बड़े घर के छात्र – छात्राये ज्यादा चिंतित नजर नही आ रहे थे
उनको जानकारी थी की और ज्यादा रूपये देकर हमें तो परीक्षा में बैठमे से वंचित नहीं कर सकते है |

जया को लुभावने व्यावसायिक कोर्स की ठगी की ठोकर लग गयी थी | उसे ‘ नए ज़माने के नए कोर्स का
जोर का झटका धीरे से लगे ‘ यह कहावत याद आने लगी | जया सबको बताने लगी , संस्थान की
सम्पूर्ण जानकारी ले लो | फीस सवलत आदि जानकारी अवश्य ले | संस्थान मान्यता प्राप्त , संलग्नता है
या नहीं यह देख लेना आवश्यक है |

मैं तो व्यवसाहिक कोर्स से ठग गयी लेकिन दूसरे को भी ठगी का शिकार नहीं होने दूँगी यह निर्णय लेकर
वह मिडिया के पास गयी | कैसे पुरे साल पढने – पढ़ाने के बाद परीक्षा निकट आते ही बिना कारण बताये
छत्रो का प्रवेश पत्र रोख लिया जाता है | कारण , वही मनमानी वसूली | धन मिलने पर ही प्रवेश पत्र
दिया जाता है | कारण कक्षा में कम उपस्स्थिति बताने जैसा घिसापिटा बहाना ही बताया एव मेडिकल
सर्टिफिकेट लगाना बताना इस प्रकार की ब्लैक मेलिंग सक्ति से चलती है | जया ने जोर देकर कहा
दोस्तों प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश लेने से पहले रहे सावधान | और शिकायत दर्ज करने से पीछे भी नहीं रहे |
०००
– राजू गजभिये
दर्शना मार्गदर्शन केंद्र , बदनावर जिला धार ( मध्य प्रदेश )

Author
Raju Gajbhiye
परिचय - मैं राजू गजभिये , मूलतः यवतमाल ( महाराष्ट्र) मातृभाषा मराठी , वर्तमान में बदनावर जिला धार (मध्य प्रदेश ) कश्यप स्वीटनर्स लिमिटेड में कार्यरत | किताबे पढना एव लेखन | अपितु लिखने का शौक है | व्यग ,... Read more
Recommended Posts
गज़ल  ( आगमन नए दौर )
गज़ल ( आगमन नए दौर ) आगमन नए दौर का आप जिसको कह रहे बह सेक्स की रंगीनियों की पैर में जंजीर है सुन चुके... Read more
नए नए नित छंद
कलम स्वरूपी पुष्प से ,निकलेगा मकरंद ! यही सोच रचवा रही,..नए नए नित छंद!! करें लेखनी से नही,औरौं का अपमान ! होते है साहित्य के,पंडित... Read more
दुश्मन नए मिले
जब छीनने छुडाने के साधन नए मिले हर मोड़ पर कई-कई सज्जन नए मिले कुछ दूर तक गई भी न थी राह मुड़ गई जिस... Read more
पास  आने  नहीं  देते
पास आने नहीं देते मुस्कुराने नहीं देते बोझ ज़िम्मेदारियों के सर उठाने नहीं देते ख्वाब नींद का मुझे दर खटखटाने नहीं देते कह चले अपनी... Read more