[[[ प्रेरणा गीत ]]]

प्रेरणा गीत:
आदमी हो आदमी बनकर
¤दिनेश एल० “जैहिंद”

आदमी हो आदमी बनकर तो देखो
हर संकटों में खड़ा तनकर तो देखो

स्वर्ग यही धरा नर्क भी यही धरती ।
स्वर्ग – नर्क की कल्पना तुम्हें ठगती ।।
नर्क के पिशाच को तुम दूर भगाओ ।
आदमी हो तुम तो इसे स्वर्ग बनाओ ।।
सत-मार्ग पर जरा चलकर तो देखो,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।

भूखे की जैसे ही तुम भूख मिटाओगे ।
भगवान को तब तुम धरा पे पाओगे ।।
नंगे बदन पर पर्दा जब तुम डालोगे ।
धरती को तुम स्वर्ग रूप धरा पाओगे ।।
प्यासे की प्यास तुम हरकर तो देखो,,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।।

गिरे को अब तुम हथेली पर उठाओ ।
रोते को तुम अपनी छाती से लगाओ ।।
हृदय में तुम सद्भावनाएं पनपने दो ।
जियो और हरेक को धरा पे जीने दो ।।
निर्बल संग तुम खड़ा होकर तो देखो,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।

===≈≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
17. 02. 2018

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share