[[[ प्रेरणा गीत ]]]

प्रेरणा गीत:
आदमी हो आदमी बनकर
¤दिनेश एल० “जैहिंद”

आदमी हो आदमी बनकर तो देखो
हर संकटों में खड़ा तनकर तो देखो

स्वर्ग यही धरा नर्क भी यही धरती ।
स्वर्ग – नर्क की कल्पना तुम्हें ठगती ।।
नर्क के पिशाच को तुम दूर भगाओ ।
आदमी हो तुम तो इसे स्वर्ग बनाओ ।।
सत-मार्ग पर जरा चलकर तो देखो,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।

भूखे की जैसे ही तुम भूख मिटाओगे ।
भगवान को तब तुम धरा पे पाओगे ।।
नंगे बदन पर पर्दा जब तुम डालोगे ।
धरती को तुम स्वर्ग रूप धरा पाओगे ।।
प्यासे की प्यास तुम हरकर तो देखो,,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।।

गिरे को अब तुम हथेली पर उठाओ ।
रोते को तुम अपनी छाती से लगाओ ।।
हृदय में तुम सद्भावनाएं पनपने दो ।
जियो और हरेक को धरा पे जीने दो ।।
निर्बल संग तुम खड़ा होकर तो देखो,,,,,,
आदमी हो आदमी बनकर तो देखो ।

===≈≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
17. 02. 2018

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing