मुक्तक · Reading time: 1 minute

*प्रेरक*

हर ग़म में जो मुस्काते हैं
खुशियों के नगमे गाते हैं
तोड़े मन के सारे बंधन
इक नया सवेरा पाते हैं

82 Views
Like
You may also like:
Loading...