31.5k Members 51.9k Posts

प्रेम

Mar 30, 2020 03:31 PM

प्रेम परिहास करता है
कि दिल है तो दर्द सहो
आंखे नम हो फिर भी
होठों से हंसते ही रहो🤭
~ सिद्धार्थ
समंदर को सूखने से बचाने के लिए ही
गढ़े गए हमारी तुम्हारी तरह की नदियों को
कि समंदर जीता रहे, समंदर आयुष्मान रहे
~ सिद्धार्थ

3 Likes · 5 Views
Mugdha shiddharth
Mugdha shiddharth
Bhilai
841 Posts · 12.1k Views
मुझे लिखना और पढ़ना बेहद पसंद है ; तो क्यूँ न कुछ अलग किया जाय......
You may also like: