प्रेम

जीवन अधूरा प्रेम बिना
भक्ति अधूरी प्रेम बिना
है समर्पण अधुरा ही प्रेम बिना
है हर भाव अधुरा प्रेम बिना
ज्ञान अधुरा अध्यात्म अधुरा
इस सृष्टि का सृजन अधुरा
सबकुछ है अधुरा प्रेम बिना
प्रेम ही खोना प्रेम है पाना
प्रेम है आना प्रेम है जाना
दु;ख है सुख है ख़ुशी है गम है
धरती से गगन तक सब कुछ बंधा है
इस ढाई अक्षर के पाश में
व्यंग नहीं पूर्ण सत्य है यकी न हो तो
विज्ञानं भी जनता है की —
सागर भी अम्बर को मिलने मचल उठता है
हर पूनम की रात में और इतना की आ जाती है
सुनामी……………..ले आती ………ही …
चन्द्र किरणों के साथ लहरों की
ये प्रेम गाथा कभी कवियों ने गीत लिखे तो
चकोर ने मल्हारे गा दी
कबीर रहीम नानक और मीरा
सभी को इस प्रेम ने बाँधा
राम कृष्ण या शिव की गाथा
प्रेम बिना सुनी सब साधा

24 Views
डॉ प्रतिभा प्रकाश पुत्री/श्री वेदप्रकाश माहेश्वरी स्थायी पता मो.राधाकृष्ण ग्राम/पोस्ट अलीगंज जिला एटा उत्तर प्रदेश...
You may also like: