प्रेम (2)

तुम्हें पाना ही
सब नहीं है ।
जीवन सार्थक
भी नहीं होता
मात्र तुम्हें
पाने भर से ।
बल्कि-बहुत कुछ
त्यागना ,सहना
और खोना पड़ता है,
तुम्हें पाने के बाद
तुम्हारे लिए।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक

2 Comments · 813 Views
Copy link to share
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02... View full profile
You may also like: