Skip to content

प्रेम

Neelam Sharma

Neelam Sharma

दोहे

July 7, 2017

प्यार -प्रीत मत कीजिए ,प्रीत में दिल है रोय
वो जाने दुख आपना,जाके टीस हिय में होय
चैन ह्रदय का गवाँयके,मन दिन-रैना रोय
पीर पराई में कोई सन्मुख खड़ा न होय
नीलम शर्मा

Share this:
Author
Neelam Sharma
Recommended for you