31.5k Members 51.9k Posts

प्रेम (1)

बात कविता की हो,
या जीवन के किसी
भी पहलू की ।
हर क्षण की
शुऱुआत से पहले
ज़िक्र तुम्हारा होता है।
तुम्हें पाये बिना
या तुम्हें खोजे बिना ,
हो ही नहीं सकती
शुऱुआत
किसी भी क्षण की ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।
कवि एवं शिक्षक।

1 Like · 4 Comments · 786 Views
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर , मध्यप्रदेश
97 Posts · 64.8k Views
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02...
You may also like: