.
Skip to content

**** प्रेम -मंदिर ****

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

July 3, 2017

लोग कहते हैं रिश्ते रूहानी होने चाहिए

प्यार सिर्फ जिस्मानी नही होना चाहिए

नज़र और नज़रिया अपना बदल देखें

प्यार रोशन-जिस्म बिना हुआ चाहिए

दुआ कीजिए जिस्म मन्दिर है प्यार का

प्यार का देवता बूत की देख सुंदरता

दर प्यार के आएगा मन मन्दिर में वरना

देख विद्रूपता लौट दर से फिर जायेगा

कौन दूजा फिर उस दर ठहर पायेगा

नज़र बदली है ना बदलेगा नजरिया

मुहब्बत आधार बूत -बुतखाने का है

जिस्म है वह पवित्र मन्दिर यारों जिसमे

देख सुंदरता प्रेम -देवता प्रवेश करता है

फिर क्यों भूलते हो आज की मित्रता

फेस देख की जाती है फेसबुक मित्रता

फिर प्यार का देवता क्या है भावशून्य

क्या उसको नहीं भाता प्यारा चन्द्रमुख

जिस्म तो है प्यार का प्यारा सा मन्दिर

जिसमे रख कदम भूले नादिरशाही

प्रेम का आधार जिस्म ही है प्रेम-मन्दिर ।।
. ? मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
ज़िन्दगी में इक़रार होना चाहिए
ज़िन्दगी में इक़रार होना चाहिए किसी ना किसी से प्यार होना चाहिए ज़िन्दगी के सफर में दिलदार होना चाहिए तुमको भी उससे प्यार होना चाहिए... Read more
अब वतन में हर तरफ ही प्यार होना चाहिए
ग़ज़ल ------------ अब चमन दिल का मेरे गुलजार होना चाहिए जिंदगी में अब ग़मे इतवार होना चाहिए -------?------- अब वतन में हर तरफ ही प्यार... Read more
संग फूलों के सफर में खार होना चाहिए
अब चमन दिल का मेरे गुलजार होना चाहिए फिर ग़मों से जिन्दगी में इतवार होना चाहिए -------?------- अब वतन में हर तरफ ही प्यार होना... Read more
धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए
धूप मेँ भी चाँद का दीदार होना चाहिए आदमी को आदमी से प्यार होना चाहिए माँ- बहन , भाई को माना प्यार है तुमसे बहुत... Read more