.
Skip to content

प्रेम प्रीत

दाता राम नायक DR

दाता राम नायक DR

कविता

May 18, 2017

चाँद भी यही कहता चाँदनी यही सूनाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

वो हंसो का जोड़ा प्रेमताल में प्रेमनाद करती है,
शांत सरोवर हिलोरे ले कलरव से गूँजित होती है ।
यह प्रेम दृश्य प्रियतमा जिवरा मेरा तड़पाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

वो नीलकमल के जोडे खिले अकेले आभा काँति से,
आज जलाशय में फैल गये निश्छल रति शाँति से ।
ये कमल कलि मेरा हृदयस्थिति देख मुस्काति है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

मछलियाँ मन मगन चंचल चाल चल रही है,
स्थिर शाँत सरोवर को नागिन नाच नचा रही है ।
तट किनारे मीनों का विचरना दाता को पास बूलाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

चाँद भी यही कहता चाँदनी यही सूनाती है,
प्रेम रंग में रंगी प्रीत याद तुम्हारी आती है ।

••••••••••• दाता राम नायक

Author
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more