कविता · Reading time: 1 minute

प्रेम न कोई रोग दोष है ।

कौन कह रहा प्रेम है मुश्किल,
आंख बंद कर देख रहा हूँ ।
स्वप्न में रोज मुलाकाते है ।
प्रेम रस भरी बातें है ।
नहीं जरूरी सामने आये,
हम आंखों से ही बतियाए।
हृदय में भरा प्यार का प्याला,
वह ही जाने जो है रखवाला।
छिपकर छवि मैं देख रहा हूँ ।
बस वह जाने न कोई और है ।
उसका मन में मेरे ठौर है ।
प्रेम न कोई रोग रोक है ।
प्रेम न कोई दोष रोष है ।
यह जीवन की औषधि है ।
सबकी अपनी परिधि है ।
विन्ध्य प्रकाश मिश्र विप्र

2 Likes · 1 Comment · 50 Views
Like
343 Posts · 37.1k Views
You may also like:
Loading...