प्रेम जीवन धन गया

बुढ़ापा अनुभव से सीखा, हँसा ज्ञानी बन गया |
नहीं समझा, भ्रमित हो, माया में निश्चय सन गया |
सीख लेते वही जन ,नायक बनें “नायक बृजेश”|
जो न सँभले,दुख में डूबे, प्रेम जीवन धन गया |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

126 Views
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-जागा हिंदुस्तान चाहिए "काव्य संग्रह" 2-क्रौंच सु ऋषि आलोक "खण्ड काव्य"/शोधपरक ग्रंथ...
You may also like: