23.7k Members 49.9k Posts

*प्रेम गीत*

है आज इच्छा व्यक्त कर दूँ, दिल की समस्त उद् वेदना,
कर लूँ कलमबद्ध आज अपने, मन की सभी संवेदना।
.
अपने शब्दों को पिरोकर, लयबद्ध गाऊँ मधुर संगीत,
नए प्रेमी युगलों के खातिर, लिखुँ अनोखा प्रेम गीत।।
.
बन के नायक प्रेमी कवि, बिखेरुँ नए झंकार को,
तू क्यूँ छबीली चपल चंचल, छेड़े मन के तार को।
.
कर नायिका मनभावनी, मनको लुभाये श्रृंगार नित,
नए प्रेमी युगलों के खातिर, लिखुँ अनोखा प्रेम गीत।।
.
प्रेम की परिभाषा क्या है, कहुँ कैसी इसकी रीत है,
एक दूसरे पर मर मिटे ये, इनकी हार है कि जीत है।
.
भूल जाते अपना पराया, कैसी अनोखी सरल प्रीत,
नए प्रेमी युगलों के खातिर, लिखुँ अनोखा प्रेम गीत।।
.
प्रेरणा जो पाया चिद्रूप, उस स्वाति बूंद के विश्वास से,
जग में बिखेरू चन्द्रकिरण, तुच्छ चिराग के प्रकाश से।
.
फिर खुद ही वो चली आएगी, बनने हमारी परम मीत,
नए प्रेमी युगलों के खातिर, लिखुँ अनोखा प्रेम गीत।।
.
©® पांडेय चिदानंद “चिद्रूप”
(सर्वाधिकार सुरक्षित २६/१०/२०१८ )

15 Likes · 21 Views
पाण्डेय चिदानन्द
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
रेवतीपुर, देविस्थान
144 Posts · 3.7k Views
-:- हो जग में यशस्वी नाम मेरा, है नही ये कामना, कर प्रशस्त हर विकट...