.
Skip to content

प्रीत

Neelam Sharma

Neelam Sharma

मुक्तक

July 7, 2017

न तोल प्रीत को मेरी
तू धन के तराजू में
कभी प्रेमी भी धनी हुआ करते हैं
मेरा तो खजाना बस तेरी चाहत है
तेरी चाहत में ही हम जिया और मरा करते हैं

?नीलम शर्मा ?

Author
Neelam Sharma
Recommended Posts
मुक्तक
तेरी चाहत मेरे गुनाह जैसी है! तेरी चाहत दर्द की आह जैसी है! आँखों में आहट है ख्वाबों की लेकिन, तेरी चाहत सितम की राह... Read more
सिर्फ तेरी चाहत है
???? सिर्फ़ तेरी चाहत है, मेरी दिल की गहराई में.. ढूंढती रही तुम्हें, अपनी ही परछाई में.... सोचती रही तुम्हें, यादों में तन्हाई में... वफा... Read more
कतरा-कतरा पिघल रही हैं आहें तेरी यादों की , जी चाहे साँसों में भर लूँ खुशबू तेरी चाहत की। टकरा कर लहरों सी लौटें आहट... Read more
मुस्कान
मुस्कुराहट तेरे होठों पर खिलती जो,मेरे चेहरे की वो रौनक है। मुस्कुराहट-मुस्कान तेरी, कभी है शहद, कभी नमक है। सुन, दिव्य आभा और नूर सहेजे... Read more