.
Skip to content

प्रीत का रंग भरो सजनी…..

तेजवीर सिंह

तेजवीर सिंह "तेज"

कविता

March 22, 2017

??????????
गए बीत दिवस जाने कितने,जाने कितनी बीतीं रजनी।
मेरे इस नीरस जीवन में,निज प्रीत का रंग भरो सजनी।

अंतर की नीरस वादी को,तुम प्रेम-पगी हरियाली दो।
उर के इस उजड़े उपवन को,तुम एक चतुर-सा माली दो।

निस्तेज पड़े इन अधरों को,अधरामृत से सञ्चित कर दो।
बेरंग हुए इस जीवन में,जग-भर की सब खुशियाँ भर दो।

जीवन पथ घोर अँधेरा है,तुम बन के मेरी मशाल चलो।
आतुर हो रणभूमि मांगे,तो बन फौलादी ढाल चलो।

सर मातृभूमि के हो निमित्त,मुझको मत लेना रोक प्रिये।
हो खेत कहीं जाऊँ मैं तो,तुम भी मत करना शोक प्रिये।

यदि दुःख का समय कोई आए,रहना तुम मेरे साथ सदा।
आलम्बन रहे तुम्हारा तो,नहीं मुझे सता सकती विपदा।

मैं गाउँ राग-मधुर तो तुम,बन ताल मेरे संग नृत्य करो।
मन की मन में न रह जाए,इस अर्धसत्य को सत्य करो।

जीवन के हानि-लाभ झेल, मैं संग तुम्हारे सह जाऊँ।
नयनों के ‘तेज’ बहावों में,किसी तिनके-सा न बह जाऊँ।

तेरे बिन ये दुनियाँ सूनी,मुझको हर हाल पड़े तजनी।
मेरे इस नीरस जीवन में,निज प्रीत का रंग भरो सजनी।
??????????

Author
तेजवीर सिंह
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं... Read more
Recommended Posts
मैं और तुम
चलो तुम गीत गाओ, मै साज बन जाऊं, चलो तुम शब्द बनों मैं आवाज बन जाऊं | थे किये वादे हमने वो मिलकर हम निभाएंगे,... Read more
तुम हो तो..................
तुम हो तो सब कुछ है तुम हो तो सपने हैं तुम हो तो बहुत से रिश्ते अपने हैं तुम हो तो सपनों के रंग... Read more
जीवन-रंग
KR wanika कविता Jan 25, 2017
-:जीवन-रंग:- ऊसर धरा को उर्वर कर तुम आज मुझे खिल जाने दो, खो गया था खुद से मैं कबका पर अब खुद से मिल जाने... Read more
नारी तुम जीवन की आधार शिला तुम ही जग जननी हो.... तुम ही लक्ष्मी, तुम ही दुर्गा तुम ही सती सावित्री हो तुम ही कोमल... Read more