Jun 12, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

प्रियतम

सोचू आज एक खत प्रियतम मै तुम्हारे नाम लिखूँ
खत में दिल कि सब बाते लिखूँ
संग बीते एक एक पल लिखूँ
सपनो कि उड़ानो के परवाज़ लिखूँ
अपने दिल कि वो हर बात लिखूँ
तेरे लिए मेरे सारे ज़ज्बात लिखूँ
तुम प्रियतम हो मेरे साजन
दर्पन हो मेरे मन के तुम
जो दी तुमने मुझे वो सारी सौगात लिखूँ
मेरे जीवन कि बेला मे क्या क्या रंग बिखेरे तुमने
आज दिल के वो सारे ख्यालात लिखूँ
दिल कहता है प्रियतम मेरे
प्रेयसी बन आज एक प्रेम पत्र तेरे नाम लिखूँ

मिशा


241 Views
Copy link to share
बरसात की एक शाम नाट्य विधा - औरत दास्ताँ दर्द की नाट्य विधा - जिंदगी... View full profile
You may also like: