.
Skip to content

प्रार्थना

रवि रंजन गोस्वामी

रवि रंजन गोस्वामी

गीत

August 29, 2017

तू किस किस की सुनेगा,
बड़ी मुश्किल में होगा ।
पर तेरे सिवा कौन ,
मेरी भी अर्ज सुनेगा।
सब तुझसे मांग लेते है,
मैं क्यों संकोच करूँ !
ये संकोच न हो दर्प मेरा।
मैं भी झुकता हूँ अब
तू कर कल्याण मेरा ।

Author
Recommended Posts
मैं कविता करूँ, तू हँसता रह...
???? मैं कविता करूँ तू हँसता रह..... ? मेरी कोई भी गलती पर बेझिझक तू टोकता रह.... ? मुद्तों से बैठकर मुझ में मुझे तू... Read more
मेरा हमसफ़र
हमसफ़र तू हमनफस तू, दोस्त है तू जिंदगी का । हमराज तू हमराह तू, राग है तू साज का।। कोयल की कूक सा तू, बागों... Read more
मैं और तू
मैं और तू *** शीर्ष लोम से चरण नख तक एक तेरे ही नाम से बंधी हूँ मैं अंग अंग किया अर्पण तुझ पर सौगंध... Read more
हाल- ए-दिल
मैं वाक़िफ़ हूँ इस हकीक़त से,तू मेरा हमराह नहीं हो सकता, मैं भी मेरी शरीक-ऐ-हयात से बेवफा नहीं हो सकता, फिर क्यूँ मेरा दिल तेरे... Read more