कविता · Reading time: 1 minute

प्रार्थना

कोई प्रार्थना काम न
आई
तुम्हें बचा न पाई
जीवनदान दे न पाई
तुम्हारी रक्षा न कर पाई
कोई प्रार्थना कुछ करेगी क्या
जब एक जीवित इंसान को
बचाया जा सकता था
और किसी की समय रहते
एक कोशिश नहीं दिखी
उसे बचाने की
अब जब कोई नहीं
इस संसार में तो
प्यार जताने का आखिर है
कोई फायदा।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

24 Views
Like
286 Posts · 14.6k Views
You may also like:
Loading...