कविता · Reading time: 1 minute

प्रार्थना

है ! ईश करता हूँ प्रार्थना,
सब सुखी रहे ऐसी कामना,
आप जग के हो पालनहार,
कृपा कीजिए है ! करतार,

आया है जग पर जो संकट,
है ! प्रभू दूर कीजिए झट,
चुभ रहे है रोग के शूल,
क्षमा कीजिए हमारी भूल ,

हम बच्चें है आपके नादान,
है ! देव दीजिए हमे वरदान,
खिल जाए सबकी मुस्कान,
हम करते आपका गुणगान,
—जेपीएल

1 Like · 31 Views
Like
You may also like:
Loading...