May 1, 2017 · मुक्तक
Reading time: 1 minute

सुबह ना आए, सुजन यदि दीन है|

चेतना बिन नर ,कहाँ स्वाधीन है |
ज्ञानमय आलोक तज,दमहीन है |
तम जहाँ पर है, वहाँ पर कभी भी
सुबह नाआए,सुजन यदि दीन है |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

“जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति का मुक्तक

01-05-2017

141 Views
Copy link to share
Pt. Brajesh Kumar Nayak
158 Posts · 44.5k Views
Follow 14 Followers
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" काव्य संग्रह 2-"क्रौंच सु ऋषि आलोक" खण्ड काव्य/शोधपरक ग्रंथ... View full profile
You may also like: