23.7k Members 50k Posts

प्रातःकालीन वन्दन

जय जय जय प्रभु दीनदयाला
हर क्षण हर पल तूने संभाला
तू ही है सब का रखवाला
जपते हम तेरे नाम की माला।

—-रंजना माथुर दिनांक 06/07/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

138 Views
Ranjana Mathur
Ranjana Mathur
412 Posts · 17.7k Views
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से...